Keyboard QWERTY Format Main Kyon Hota Hai? ABCDEF Main Kyon Nahi?

Keyboard कंप्यूटर के महत्वपूर्ण डिवाइसों में से एक है यह एक इनपुट डिवाइस है जिसकी सहायता से हम कंप्यूटर में लिख सकते हैं इसके अलावा भी हम कई प्रकार की कमांड उसे दे सकते हैं जिसके जरिए कंप्यूटर चलाना बहुत आसान हो जाता है आप सब लोगों ने यह तो देखा ही होगा कि Keyboard का फोर्मेट ABCDEF के फोर्मेट में नहीं होता है वह QWERTY फोर्मेट में होता है क्या आपने कभी सोचा है की यह ऐसा क्यों होता है इस प्रकार का Keyboard बनाने के पीछे क्या वजह हो सकती है

Keyboard logo

यह बहुत ही कॉमन सवाल है जो कि आपके मन में कभी न कभी आया ही होगा कि Keyboard के जो बटन होते हैं वह QWERTY फोर्मेट में क्यों होते हैं इसके पीछे मुख्य वजह यही है कि यह आपकी स्पीड को बेहतर करने में मदद करता है जिससे आपकी स्पीड अच्छी होती है और आप आसानी से टाइप कर सकते हैं

Keyboard Evolution Ki Jaankari

पुराने समय में Keyboard ABCDEF फॉर्मेट में आया था जो Christopher Latham Sholes द्वारा बनाया गया था इस प्रकार के Keyboard से टाइप करने में असुविधा होती थी जिसके जरिए टाइपिंग की स्पीड में बहुत फर्क आता था इसके कारण टाइपिंग की स्पीड बढ़ाना असंभव सा था लेकिन आज के Keyboard का जो फॉर्मेट है उसके जरिए हम आसानी से तेज स्पीड में टाइप कर सकते हैं

सबसे पहला QWERTY फ़ॉर्मेट वाला Keyboard भी Christopher Latham Sholes ने बनाया था लेकिन इस Keyboard के बटन के बीच में पर्याप्त जगह ना होने के कारण जल्दी टाइप करना मुश्किल होता था

wikipedia.org/wiki Christopher Latham Sholes

इसके बाद Christopher Latham Sholes ने QWERTY फॉर्मेट वाला Keyboard एक नए अंदाज में बनाया जिसमें टाइप करना बहुत आसान होता था जिसकी वजह से टाइपिंग स्पीड में भी बहुत फर्क देखने को मिला जिसके कारण कोई भी आसानी से टाइप करके अपनी स्पीड को बढ़ा सकता था

कुछ समय तक DVORAK फॉर्मेट वाला Keyboard भी चलन में आया लेकिन वह भी सुविधाजनक नहीं था क्योंकि उसमें आसानी से टाइपिंग नहीं की जा सकती थे

Keyboard QWERTY Format Main Kyon Hota Hai?

वैसे तो कंप्यूटर के Keyboard में कई प्रकार के बदलाव आए लेकिन आखरी में QWERTY वाला फॉर्मेट ही सुविधाजनक और सरल साबित हुआ जिसकी सहायता से आसानी से टाइप किया जा सकता था और स्पीड को भी बढ़ाया जा सकता था

इस प्रकार के बदलाव आप Macbook और उनके Laptop में आपको देखने को मिलेगा

Keyboard का इस्तेमाल आप सभी ने किया होगा लेकिन आज आपने जो जानकारी हासिल की वह जानकारी शायद ही आप पहले जानते होंगे इस जानकारी के जरिए आपने आज यह सीखा कि Keyboard के फॉर्मेट को सुधारने की प्रक्रिया बहुत पहले से ही चली आ रही है इसमें कई प्रकार के बदलाव हुए और उनको सुधारा भी गया तब जाकर आखिर में QWERTY वाला फॉर्मेट हमारे सामने स्थिर हो पाया

इसे भी जरूर पड़ें

LTE or VoLTE Main Kya Antar Hai

निष्कर्ष (Conclusion)

आज के पोस्ट में आपने सीखा की Keyboard का जो फॉर्मेट होता है वह बहुत पहले से ही चला आ रहा है लेकिन उसमें भी कई प्रकार के सुधार किये गए जिनकी वजह से आज Keyboard को यूज करना बहुत आसान हो गया है और हम आसानी से अच्छी स्पीड के साथ Keyboard की सहायता से टाइप कर सकते हैं

मुझे उम्मीद है कि आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी, अगर आपको यह जानकारी पसंद आई है तो आप इस Post को LIKE कर सकते है और अपने Friends और Family Members को Share कर सकते है. यदि आपका कोई सुझाव या प्रश्न हो तो आप मुझे comment करके जरूर पूछ सकते हैं. 

धन्यवाद